तनाव से मुक्ति

कई धार्मिक लोग अपनी भावनाओं के साथ संघर्ष करते हैं। किसी दिन आप खुद को ईश्वर के करीब महसूस करते हैं और किसी दिन ईश्वर को खुद से दूर पाते हैं।

आप आश्चर्य करते होंगे कि क्या आपको अधिक परिश्रमी होने की आवश्यकता है । क्या आपको लगता है कि आपको और कोशिश करनी चाहिए?

नहीं।

ईश्वर हमें उनके साथ हमारे रिश्ते को जीने के लिए पूरी तरह से एक अलग नज़रिया देते हैं। मैं चाहती हूँ कि आप देखें कि पवित्रशास्त्र हमें ईश्वर पर भरोसा करने के बारे में क्या कहता है और कैसे हमें ईश्वर के प्यार का पालन करना चाहिए।

मैंने आपके लिए संदेशों की एक श्रृंखला बनायी है जिसे मैं कहती हूँ, ‘‘तनाव से मुक्ति’’।

यह श्रृंखला दिए गए विषयों पर प्रकाश डालेगी:

  • उन सभी आदेशों का क्या करें जिन्हें आप देखते हैं।
  • पवित्र आत्मा कौन है और वह हमारे लिए क्या करती है।
  • कैसे ईश्वर हमारे जीवन को बदलते हैं और हमें आज़ाद करते हैं।
  • आस्था के साथ जीने के मायने क्या होते हैं।
  • पाप के बारे में ईमानदार कैसे रहें और फिर भी अपराधबोध से कैसे मुक्त रहें।

आप इन संदेशों की श्रृंखला सीधे मुझसे ही प्राप्त करेंगे। मैं मेरीलिन एडमसन, Everystudent.com की निदेशक(डायरेक्टर)। आपको पहला संदेश उसी समय प्राप्त होगा और अन्य संदेश कुछ समय बाद।

यदि आप इस श्रृंखला को प्राप्त करना चाहते हैं, तो बस इस पृष्ठ में दिए गए फ़ॉर्म को भरें। पहला संदेश कुछ ही मिनटों में आपके ईमेल में होगा।*

हम आपका ईमेल एड्रेस और फ़ोन नंबर कभी किसी के भी साथ सांझा नहीं करते हैं।आप किसी भी समय इन ईमेल और संदेशों की श्रृंखला(series of messages) को प्राप्त करना बंद कर सकते हैं।

आपको एक हारी हुई ईसाई की जिंदगी जीने की कोई जरुरत नहीं है। ईश्वर के पास आपके लिए बहुत कुछ है। मुझे उम्मीद है आप साइनअप करेंगे।

*यह श्रृंखला उन सभी के लिए है जिनकी उम्र 16 वर्ष या उससे अधिक है । यदि किसी की उम्र 16 वर्ष से कम है तो ये अपने माता पिता की अनुमति से इससे जुड़ सकते हैं। यही हमारा गोपनीय कथन है।

‘‘तनाव से मुक्ति’’ के लिए साइन अप करें।

निष्ठा से,

मेरीलिन एडमसन
Director of EveryStudent.com
And StartingwithGod.com