हमारे अंदर की पवित्र आत्मा

हम में से कुछ लोग यह सोचते हैं , "अगर ईसा यहाँ धरती पर होते, और हम उन्हें देख पाते, तो हम उनका हर जगह अनुसरण करते।" लेकिन यहेजकेल 36:26-27 में, प्रभु कहते हैं, "मैं अपनी आत्मा को तुम्हारे भीतर रखूंगा और तुम्हें मेरे मार्ग पर चलाऊंगा।" उस शब्द "भीतर" के बारे में कुछ तो है। "मैं तुम्हारे भीतर अपनी आत्मा रखूंगा।" एक समय ऐसा भी था जब मुझे खुद को याद दिलाने की जरूरत पड़ती थी कि उनकी आत्मा मेरे भीतर है। मुझे याद है कि मैं वह पढ़ रही थी और कई दिनों तक मैं सोचती रही, "उनकी आत्मा मेरे भीतर है।" ईसा मसीह आज भी अपनी आत्मा के द्वारा मुझमें वैसे ही मौजूद है जैसे वह अपने शिष्यों के साथ थे। यह महसूस करना बहुत ही अद्भुत है कि उनकी आत्मा हमारे भीतर रहती है और अक्सर हम इस बात पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देते हैं।

पवित्र आत्मा जहाँ रहती है

1 कुरिन्थियों 3:16 में कहा है, "क्या तुम नहीं जानते कि तुम्हारा शरीर पवित्र आत्मा का मंदिर है। "एंड्रयू मुरै ने अपनी पुस्तक द स्पिरिट ऑफ क्राइस्ट में इसे काफी विस्तार से बताया है जो कि मेरे लिए बहुत ही मददगार था। उन्होंने बताया कि यहूदी मंदिर में तीन चौक थे: बाहरी चौक, भीतरी चौक, और महा पवित्र स्थान।

मूरै ने यह बताया कि कैसे हमारा शरीर बाहरी चौक की तरह है और भीतरी चौक हमारे मन, हमारी इच्छा और हमारी भावनाओं की तरह है। लेकिन हमारे अंदर महा पवित्र स्थान है जहाँ ईश्वर की आत्मा बसती है। पवित्र आत्मा हमारी आत्मा के अंदर बसती हैं इसलिए तुम्हारे अंदर और मेरे अंदर पवित्रता का पुंज है। पवित्र की पवित्रता आप में है। उस अध्याय के श्लोक 17 में कहा गया है, "ईश्वर का मंदिर पवित्र है, और वह मंदिर वही है जो तुम हो।" यह आपकी आत्म-छवि को यह जानने में बहुत ही मदद करेगा कि पवित्र की पवित्रता आप में और मुझमें है।

हम अपने मंदिरों को साफ कैसे रखें? एक बार जब हमने ईसा मसीह को स्वीकार कर लिया, तो यह ईसा मसीह का ही खून है जो हमें शुद्ध करता है। फिर हम अपने मंदिरों की सफाई कैसे करते हैं? ईश्वर पर विश्वास के साथ और ईश्वर के वचन को मानकर।

1 यूहन्ना 1: 9 एक श्लोक है जिसे मैं “ईसाईयों की मधुशाला” कहना पसंद करती हूँ। यह श्लोक कहता है, "यदि हम अपने पापों को स्वीकार करते हैं, तो वह विश्वासयोग्य है और हमें हमारे पापों के लिए क्षमा करने और सभी अधर्मो से हमें शुद्ध करने के लिए है।"

पिछली बार कब आपने अपने हाथों को धोया था तब जब वे वास्तव में बहुत गंदे थे, तब क्या आपने सिंक पर खड़े होकर यह कहा था, "गंदगी कहाँ गई, मैं इसके बारे में बहुत चिंतित हूँ? “नहीं, आपने ऐसा नहीं किया और आपने यह विश्वास से स्वीकार किया कि गंदगी नाली में चली गई। आपने इसके बारे में कभी नहीं सोचा और यही हमें करने की जरूरत है। अगर हम अपने पापों को स्वीकार करते हैं, तो वह विश्वसनीय है और वह सिर्फ हमारे पापों को क्षमा करने और हमें सभी अधर्म से शुद्ध करने के लिए है। हमें यह विश्वास करने की आवश्यकता है कि उन्होनें हमें माफ कर दिया है, भले ही हम यह देख या महसूस नहीं कर सकते।

पवित्र आत्मा हमेशा हमें ईसा मसीह की ओर इंगित करती है। वह हमेशा हमें क्षमा करने, क्रूस और मसीह के रक्त की ओर इशारा करती है। वह हमेशा हमें निंदा नहीं करने के लिए कहती है। क्यों? क्योंकि रोमियों 8: 1 कहता है, "इसलिए अब उन लोगों के लिए कोई निंदा नहीं है जो ईसा मसीह में है।"

परंतु शैतान क्या करता है? वह आपकी उस शांति को लूटना चाहता है जो ईश्वर कहते हैं कि आपकी है। शैतान आपको अतीत में देखने और अपने सबसे बुरे पापों के बारे में सोचने के लिए मजबूर करता है। आप उन्हीं चीजों के बारे में सोचते हैं और वे एक वीडियो की तरह आपके दिमाग में चलती हैं। हमें उन पापों को क्रूस के नीचे ले आने और कहने की आवश्यकता है, “ईश्वर ईसा, यह साबित करता है कि मुझे एक रक्षक की जरुरत है। ईश्वर, आपका धन्यवाद कि ईसा का रक्त मुझे सभी पापों से मुक्त करता है।” क्रूस और मसीह के रक्त के माध्यम से अपने पापों के बारे में सोचो, और आपके पास ईश्वर की शांति होगी। पुराने पापों की समीक्षा न करें। ईश्वर की क्षमा पर विश्वास करें।

पवित्र आत्मा हमसे बोल रही है

अब, अपने वर्तमान पापों के बारे में क्या, वह पाप जिनकी तरफ ईश्वर आपका ध्यान लाते हैं।

जिस तरह से ईश्वर मेरे पास होते हैं, किसी अन्य तरीके से अधिक, मेरे रिश्तों के ज़रिये होते हैं। मेरे जीवन में एक ऐसा रिश्ता था जिसने मुझे कई वर्षों तक परेशान किया। वह मेरा उस व्यक्ति के साथ ऐसा कठिन समय था जब मैंने सोचा था, "यदि वह स्वर्ग में रहने जा रहे हैं तो मैं वहाँ भी नहीं जाना चाहती।" मैं उस व्यक्ति पर उंगलियां उठा रही थी और मैं बहुत आलोचनात्मक और निर्णायक थी। मैं स्वयं को दोषी महसूस कर रही थी। मेरे पास उनके बारे में कहने के लिए कुछ भी अच्छा नहीं था और पूरे समय बस, मैं खुद को सही ठहरा रही थी।

फिर एक दिन प्रभु ने मुझे लूका 18: 9 की ओर इशारा किया, "उन्होनें यह नीतिकथा कुछ खास लोगों को बतायी जिन्हें खुद पर भरोसा था कि वे न्याय परायण थे और दूसरों को अवमानना के साथ देखते थे।" मुझे एहसास हुआ कि मैं उस दूसरे व्यक्ति को अवमानना के साथ देख रही थी। ईसा ने यह नीतिकथा बतायी :

"दो लोग प्रार्थना करने के लिए मंदिर में गए, एक फरीसी (आत्म-धर्मी, ईसा के दिनों में एक अभिमानी धार्मिक नेता) और दूसरा एक कर संग्राहक (अक्सर भ्रष्ट, अति-कर लगाने वाला, लोग जिस से सबसे अधिक नफरत करते) था। फरीसी उठ खड़ा हुआ और अपने आप से यह प्रार्थना करने लगा, ' ईश्वर मैं आपको धन्यवाद देता हूँ कि मैं अन्य लोगों की तरह नहीं हूँ: ठग, अन्यायी, व्यभिचारी या यहाँ तक कि मैं उस कर संग्राहक की तरह भी नहीं हूँ। मैं सप्ताह में दो बार उपवास करता हूँ, मुझे जो कुछ भी मिलता है उसका मैं पूरा भुगतान करता हूँ।' लेकिन वह कर संग्राहक जो कुछ दूर खड़ा था, वह अपनी आंखों को स्वर्ग तक उठाने के लिए तैयार नहीं था और यह कहते हुए अपनी छाती पीट रहा था, ' ईश्वर मुझ पापी पर दया करें।'

यीशु ने नीतिकथा को समझाते हुए कहा, "मैं आपको यह बताता हूँ कि (जिस आदमी ने कहा था कि 'ईश्वर मुझ पापी पर दया करें) वह अपने घर गया और दूसरों के बजाय खुद को सही ठहराया। प्रत्येक व्यक्ति के लिए, जो खुद को बड़ा बनाएगा, वह विनम्र होगा, लेकिन वह जो खुद को विनम्र करता है, वह बड़ा बन जायेगा। ”

जब मैंने इसे पढ़ा तो मैंने कहा, “हे प्रभु, मैं फरीसियों की तरह हूँ। मुझे इससे नफरत है कि मैं उस व्यक्ति को अवमानना के साथ देख रही हूँ। मुझे एहसास हुआ कि मुझे अपने दिल में देखने की जरूरत है। जैसे ही मैंने अपने दिल में देखना शुरू किया, मैंने देखा ईर्ष्या, प्यार की कमी, गर्व, क्रोध, न्याय करना, उस पर अपनी उंगली उठाना। मैंने इसके बाद गलातियों 5:16-23 को देखा "लेकिन मैं कहता हूँ कि आत्मा से चलो और तुम देह की इच्छा को पूरा नहीं करोगे ... देह का फल (या कर्म) स्पष्ट है । अनैतिकता, अशुद्धता, कामुकता, मूर्तिपूजा, जादू-टोना, घृणा, कलह, क्रोध का प्रकोप , ईर्ष्या, विवाद, असंतोष, गुट, नफ़रत, मादकता, हिंडोला, और इन जैसी चीज़ें। लेकिन आत्मा का फल प्रेम, आनंद, शांति, धैर्य, दया, भलाई, विश्वास, सौम्यता, आत्म नियंत्रण है, ऐसी चीजों के खिलाफ कोई कानून नहीं है।"

कभी-कभी हम पाप की सूची को देखते हैं और यह कहते हैं, "वैसे मैं खुद को इस सूची में कहीं नहीं पाती हूँ।" लेकिन क्या आप जानते हैं कि हम क्या करने में असफल हैं? हम आत्मा सूची के फल में खुद को देखने में विफल रहते हैं और कहते हैं, “मैं कितना प्यार कर रही हूँ? मैं कितनी दयालु हूँ? मैं कितनी वफादार हूँ? मैं कितनी सज्जन हूँ? ”हम आत्मा के फल द्वारा खुद को मापने के बजाय खुद को पापों से मापते हैं।

एंड्रयू मूरै ने कहा, "ऐसा क्यों है कि हम उन ईसाईयों को खोजते हैं जो पवित्र और कठोर हैं?" वह आगे कहते हैं, “क्योंकि वे प्रेम की आत्मा के बारे में कुछ नहीं जानते। केवल पवित्र आत्मा ही उनमें प्रेम उत्पन्न कर सकती है। ”

जैसा कि मैंने उस व्यक्ति के बारे में सोचा था जिसने मुझे उपहति पहुंचाई थी, इसने मुझे 1 पतरस 3:8,9 का एक श्लोक याद दिलाया: "संक्षेप में, सभी को सौहार्दपूर्ण, सहानुभूतिपूर्ण, भाईचारे, दयालु और विनम्र होने की भावना दें, बुराई के लिए बुराई नहीं लौटाएं, या अपमान के लिए अपमान न लौटाएं।"

मुझे लगा कि उस व्यक्ति ने मेरे साथ बहुत ही बुरा किया है, मेरा अपमान किया है। परंतु इसके बाद कहते हैं, "बुराई के लिए बुराई नहीं, या अपमान के लिए अपमान नहीं, पर इसके बजाय एक आशीर्वाद दें। आपको इस उद्देश्य के लिए बुलाया गया था कि आप एक आशीर्वाद प्राप्त कर सकें।"

जैसा कि मैंने अपने दिल में देखा और स्वीकार किया कि मैं एक फरीसी की तरह थी और मैंने प्रार्थना की, "ईश्वर, मुझ पर दया करो मैं एक पापी हूँ। ईश्वर, क्या आप कृपया मुझे दिखाएंगे कि इस व्यक्ति को आशीर्वाद कैसे दिया जाए? " मैं उस समय इंग्लैंड में थी, और वहाँ बुकस्टोर्स में से एक बुकस्टोर में मुझे एक महंगी किताब देखकर याद आया कि मुझे पता था कि वह उसे सचमुच बहुत पसंद आयेगी। अगली बार जब मैं अमेरिका वापस गयी, मैंने उसे वह पुस्तक दी। मैं आपको बता नहीं सकती कि इस बात ने उसे कितनी गहराई से छू लिया था। यह उसके लिए सबकुछ था और मुझे लगता है कि ईश्वर ने इसे शक्तिशाली तरीके से इस्तेमाल किया।

पवित्र आत्मा हमेशा हमें यह दिखाने के लिए वफादार होगी कि हम कहाँ और कब ईसा मसीह के समान नहीं हैं। वह वफादार थी मुझे दिखाने के लिए जहाँ मैं ईसा मसीह की तरह नहीं थी। जैसा कि हम ईश्वर के वचन को पढ़ते हैं और पवित्र आत्मा से पूछते हैं कि हमें उन तरीकों से कैसे आगे बढ़े, जो उन्हें प्रसन्न करते हैं, वही हमारे जीवन में आत्मा के फल : “प्रेम, आनंद, शांति, धैर्य, दया, भलाई, सौम्यता और आत्म - संयम " पैदा करेंगे।

ईसा ने कहा, “जैसे पिता ने मुझे प्रेम किया है, वैसे ही मैंने भी तुम्हें प्रेम किया है, मेरे प्रेम में रहो… ये बातें मैंने तुमसे कही हैं कि मेरी खुशी तुम्हारे अंदर हो, और तुम्हारी खुशी पूरी हो। ” (यूहन्ना 15: 9,11)

अनुमति द्वारा नेय बेली की पुस्तक फेथ इज़ नॉट ए फीलिंग के अंश।